Jcert Class 9 Science Question And Answer परमाणु की संरचना Chapter 4 विज्ञान


पाठ्यपुस्तक प्रश्न-उत्तर पृष्ठ संख्या - 53


 Q1. केनाल किरणें क्या हैं?


उत्तर : ऐनोड से उत्पन्न होने वाली धन आवेशित किरणें केनाल किरणें कहलाती  हैं। इन किरणों की खोज सन 1886 में गोल्डस्टीन ने की थी। इन्हीं के कारण दूसरे अवपरमाणुक कणों की खोज संभव हो पाई। इन कणों का आवेश इलेक्ट्रॉन के आवेश के बराबर होता है और इलेक्ट्रॉनों की अपेक्षा लगभग 2000 गुना अधिक होता है। इनमें आयनीकरण की क्षमता अधिक होती है तथा भेदन शक्ति कम होती है।


Q2. यदि किसी परमाणु में एक इलेक्ट्रॉन और एक प्रोटॉन है, तो इसमें कोई आवेश होगा या नहीं?


उत्तर : यदि किसी परमाणु में एक इलेक्ट्रॉन और एक प्रोटॉन है, तो इसमें कोई आवेश नहीं होगा । क्योंकि प्रत्येक परमाणु के नाभिक में उतने ही प्रोटॉन होते हैं जितने के नाभिक के बाहरी भाग में इलेक्ट्रॉन उपस्थित होता है। प्रत्येक प्रोटॉन पर एक इकाई धन आवेश +1 होता है जबकि इलेक्ट्रॉन पर एक इकाई ऋण आवेश +1 होता है । इसलिए परमाणु में धन तथा ऋण आवेश की संख्या बराबर होती है जिस कारण परमाणु विद्युत उदासीन होगा।


पाठ्यपुस्तक प्रश्न-उत्तर पृष्ठ संख्या - 56 - A


Q1. परमाणु उदासीन है, इस तथ्य को टॉमसन के मॉडल के आधार पर स्पष्ट कीजिए।

उत्तर : टॉमसन के मॉडल के आधार पर, "इलेक्ट्रॉन धन आवेशित परमाणु के गोले में धँसे होते है। परमाणु में ऋणात्मक (इलेक्ट्रॉन) और धनात्मक (प्रोटॉन) आवेश परिमाण में समान होने के कारण परमाणु विद्युतिय रूप से उदासीन होते है।"


Q2. रदरफ़ोर्ड के परमाणु मॉडल के अनुसार, परमाणु के नाभिक में कौन सा अवपरमाणुक कण विद्यमान है?


उत्तर : रदरफ़ोर्ड के परमाणु मॉडल के अनुसार, परमाणु के नाभिक में प्रोटॉन अवपरमाणुक कण विद्यमान है।


Q3. तीन कक्षाओं वाले बोर के परमाणु मॉडल का चित्र बनाइए।

उत्तर : 




Q4. क्या अल्फ़ा कणों का प्रकीर्णन प्रयोग सोने के अतिरिक्त दूसरी धातु की पन्नी से संभव होगा?


उत्तर : सोने की पन्नी 1000 परमाणुओं के बराबर मोटी होती है जो अन्य धातुओं में संभव नहीं है। इसलिए अल्फ़ा कणों का प्रकीर्णन सोने के अतिरिक्त दूसरी धातु के पन्नी से संभव नहीं है।


पाठ्यपुस्तक प्रश्न-उत्तर पृष्ठ संख्या - 56 - B


Q1. परमाणु के तीन अवपरमाणुक कणों के नाम लिखें


उत्तर : 

परमाणु के तीन अवपरमाणुक कण हैं - (i) इलेक्ट्रॉन , (ii) प्रोटॉन औऱ (iii) न्यूट्रॉन ।


Q2. हीलियम परमाणु का परमाणु द्रव्यमान 4u है और उसके नाभिक में दो प्रोटॉन होते हैं। इसमें कितने न्यूट्रॉन होंगे ?


उत्तर : 

हीलियम परमाणु में न्यूट्रॉन की संख्या = 2 है।


पाठ्यपुस्तक प्रश्न-उत्तर पृष्ठ संख्या - 57


Q1. कार्बन और सोडियम के परमाणुओं के लिए इलेक्ट्रान वितरण लिखिए।


उत्तर : 

(i) कार्बन की परमाणु संख्या 6 होता है इसलिए कार्बन परमाणु में  6 इलेक्ट्रॉन होते हैं। 

(a) पहले 2 इलेक्ट्रॉन K कोश में जाएंगे।  

(b) शेष 6 - 2 = 4 इलेक्ट्रॉन L कोश में जाएंगे।

इसलिए कार्बन परमाणु में इलेक्ट्रॉनों का वितरण होगा :  

K  L

2  4

अथवा 2 , 4  


(ii) सोडियम की परमाणु संख्या 11 होता है इसलिए सोडियम परमाणु में 11 इलेक्ट्रॉन होते हैं। 

(a) पहले 2 इलेक्ट्रॉन K कोश में जाएंगे।  

(b) दुसरे 8 इलेक्ट्रॉन L कोश में जाएंगे।

(c) शेष 11 - 2 - 8 = 1 इलेक्ट्रॉन M कोश में जाएंगे।

इसलिए कार्बन परमाणु में इलेक्ट्रॉनों का वितरण होगा :  

K  L  M

2  8   1

अथवा 2, 8, 1  



Q2. अगर किसी परमाणु का K और L कोश भरा है, तो उस परमाणु में इलेक्ट्रॉनों की संख्या क्या होगी?


उत्तर : यदि किसी परमाणु का K और L कोश भरा है, तो उस परमाणु में इलेक्ट्रॉन की कुल संख्या 10 (दस) होगी।


पाठ्यपुस्तक प्रश्न-उत्तर पृष्ठ संख्या - 58


Q1. क्लोरीन, सल्फ़र और मैग्नीशियम की परमाणु संख्या से आप इनकी संयोजकता कैसे प्राप्त करेंगे?


उत्तर : 

क्लोरीन, सल्फर और मैग्नीशियम की परमाणु संख्या से हम इनकी संयोजकता निम्न प्रकार से प्राप्त करेंगे :  


मैग्नीशियम एक धातु है जबकि सल्फर और क्लोरीन अधातु है।

धातु की संयोजकता = बाहरी कक्ष में उपस्थित इलेक्ट्रॉनों की संख्या

अधातु की संयोजकता = 8 - बाहरी कक्ष में उपस्थित इलेक्ट्रॉनों की संख्या


(i)क्लोरीन की परमाणु संख्या 17 है।

क्लोरीन इलेक्ट्रॉनिक वितरण : 2,8 ,7

क्लोरीन(अधातु) की संयोजकता = 8 - बाहरी कक्ष में उपस्थित इलेक्ट्रॉनों की संख्या = 8 - 7 = 1  

क्लोरीन(अधातु) की संयोजकता 1 है ।


(ii)सल्फर की परमाणु संख्या 16 है।

सल्फर इलेक्ट्रॉनिक वितरण : 2,8 ,6

सल्फर(अधातु) की संयोजकता = 8 - बाहरी कक्ष में उपस्थित इलेक्ट्रॉनों की संख्या = 8 - 6 = 2

सल्फर(अधातु) की संयोजकता 2 है ।


(iii)मैग्नीशियम की परमाणु संख्या 12 है।

मैग्नीशियम इलेक्ट्रॉनिक वितरण : 2,8 ,2

मैग्नीशियम(धातु) की संयोजकता = बाहरी कक्ष में उपस्थित इलेक्ट्रॉनों की संख्या = 2  

मैग्नीशियम(धातु) की संयोजकता 2 है ।



पाठ्यपुस्तक प्रश्न-उत्तर पृष्ठ संख्या - 59


Q1. यदि किसी परमाणु में इलेक्ट्रॉनों की संख्या 8 है और प्रोटॉनों की संख्या भी 8 है तब, 
(a) परमाणु की परमाणुक संख्या क्या है? 
(b) परमाणु का क्या आवेश है?

उत्तर : (a) यदि किसी परमाणु में प्रोटॉन की संख्या 8 एवं इलेक्ट्रॉन की संख्या 8 है, तब उसकी परमाणु संख्या 8 होगी क्योकि परमाणु संख्या = इलेक्ट्रॉन की संख्या = प्रोटॉन की संख्या।

(b) परमाणु पर कोई आवेश नहीं है और परमाणु उदासीन है।


Q2. सारणी 4.1 की सहायता से ऑक्सीजन और सल्फ़र-परमाणु की द्रव्यमान संख्या ज्ञात कीजिए |


उत्तर : 

(i) ऑक्सीजन परमाणु में 8 प्रोटॉन एवं 8 न्यूट्रॉन होते है अतः इसकी 

द्रव्यमान संख्या =  प्रोटॉन + न्यूट्रॉन

द्रव्यमान संख्या = 8 + 8 = 16 होगी।


(ii) सल्फर परमाणु में 16 प्रोटॉन एवं 16 न्यूट्रॉन होते है अतः इसकी 

द्रव्यमान संख्या = प्रोटॉन + न्यूट्रॉन

द्रव्यमान संख्या = 16 + 16 = 32 होगी।



पाठ्यपुस्तक प्रश्न-उत्तर पृष्ठ संख्या - 60


Q1. चिह्न H, D और T के लिए प्रत्येक में पाए जाने वाले तीन अवपरमाणुक कणों को सारणीबद्ध कीजिए।

उत्तर : 



Q2. समस्थानिक और समभारिक के किसी एक युग्म का इलेक्ट्रॉनिक विन्यास लिखिए।


उत्तर : 

समस्थानिक में समान तत्व के परमाणु होते हैं । इसलिए एक तत्व के सभी संस्थानिको का परमाणु क्रमांक समान होगा तथा इनका इलेक्ट्रॉनिक विन्यास भी समान ही होगा । .3517Cl तथा .3717Cl समस्थानिक है और इनका परमाणु क्रमांक (17) भी समान है । इसलिए इनका इलेक्ट्रॉनिक विन्यास 2, 8, 7 है ।
समभारिक में विभिन्न तत्वों के परमाणु होते हैं । इनका परमाणु क्रमांक तथा इलेक्ट्रॉनिक विन्यास भिन्न-भिन्न होता है, परन्तु इनकी द्रव्यमान संख्या समान होती है । .4018Ar तथा .4020Ca समभारिक है । इनकी द्रव्यमान संख्या (40) समान है । Ar का परमाणु क्रमांक 18 है तथा इसका इलेक्ट्रॉनिक विन्यास 2, 8, 8 है । इसी प्रकार Ca का परमाणु क्रमांक 20 है तथा इसका इलेक्ट्रॉनिक विन्यास 2, 8, 8, 2 है ।



अभ्यास प्रश्न-उत्तर 


 Q1. . इलेक्ट्रॉन, प्रोटॉन और न्यूट्रॉन के गुणों की तुलना कीजिए ।


उत्तर : a) इलेक्ट्रॉनों : यह नकारात्मक रूप से आवेशित कण है 

जो नाभिक के बाहर मौजूद होता है।

यह अक्षर "ई" द्वारा दर्शाया गया है। 


b) प्रोटॉन : यह धनात्मक आवेशित कण है 

जो नाभिक के अंदर मौजूद होता है।

यह अक्षर  "पी" द्वारा दर्शाया गया है।


c) न्यूट्रॉन : यह कण न तो धनात्मक या ऋणात्मक रूप से आवेशित है 

अर्थात यह तटस्थ है।

इसे  "n" अक्षर द्वारा दर्शाया गया है। 



 Q2. . जे. जे. टॉमसन के परमाणु मॉडल की क्या सीमाएँ हैं?


उत्तर : जे. जे. टॉमसन का परमाणु मॉडल परमाणु के उदासीन होने की व्याख्या तो कर पाया लेकिन उनका मॉडल अन्य वैज्ञानिकों द्वारा किए गए प्रयोगों और उनके परिणामों की व्याख्या करने में असफल रहा।


 Q3. रदरफ़ोर्ड के परमाणु मॉडल की क्या सीमाएँ हैं ?


उत्तर : रदरफोर्ड के परमाणु मॉडल की सीमाएँ–गोलाकार (वर्तुलाकार) कक्ष में चक्रण करते हुए इलेक्ट्रॉन स्थायी नहीं रह सकता है क्योंकि कोई भी आवेशित कण गोलाकार कक्ष में त्वरित होगा। त्वरण के दौरान आवेशित कणों से ऊर्जा का विकिरण होगा। इस प्रकार स्थायी कक्ष में घूमता हुआ इलेक्ट्रॉन अपनी ऊर्जा विकिरित करेगा और नाभिक से टकरा जाएगा। इसका अभिप्राय यह होगा कि परमाणु अस्थायी है, परन्तु वास्तव में परमाणु स्थायी होते हैं । इसका समाधान रदरफोर्ड के परमाणु मॉडल में नहीं किया जा सका।



 Q4. बोर के परमाणु मॉडल की व्याख्या कीजिए ।


उत्तर : बोर परमाणु मॉडल के अनुसार इलेक्ट्रॉन नाभिक के चारों ओर केवल कुछ निश्चित कक्षाओं में ही चक्कर लगा सकते है, इन कक्षाओं को इलेक्ट्रॉन की विविक्त कक्षा कहते हैऔर इस प्रकार घूमते रहने पर उसकी ऊर्जा का विकिरण नहीं होता है। इन कक्षाओं को इलेक्ट्रॉन की ऊर्जा स्तर कहते है।जिन्हें K, L, M …. या 1, 2, 3 … से दर्शाया जाता है|



 Q5. इस अध्याय में दिए गए सभी परमाणु मॉडलों की तुलना कीजिए।


उत्तर : 

जे. जे. टॉमसन मॉडल: इस मॉडल के अनुसार परमाणु एक धनावेशित गोला होता है |जिसके चारों ओर धनात्मक आवेश होता है और इलेक्ट्रॉन इनमें इधर उधर धसे हुए होते है। ये धनात्मक तथा ऋणात्मक आवेश परिणाम में एक समान होते है,जिसके कारण परमाणु विद्युत उदासीन होते है। 


रदरफ़ोर्ड मॉडल: रदरफ़ोर्ड मॉडल के अनुसार परमाणु गोलाकार परंतु सम्पूर्ण धनावेश उसके केंद्र में होता है जिसे नाभिक कहते है। परमाणु में धनावेशित भाग बहुत कम होता है।इलेक्ट्रॉन इस नाभिक के चारो ओर चक्कर लगाते है। नाभिक परमाणु की तुलना में छोटा होता है।


बोर मॉडल: बोर के परमाणु मॉडल के अनुसार इलेक्ट्रॉन केवल कुछ निश्चित कक्षाओं में ही चक्कर लगा सकते हैं, इन कक्षाओं को इलेक्ट्रॉन की विविक्त कक्षा कहते है। एक निश्चित कक्षा में घूमते रहने पर उसकी ऊर्जा का विकिरण नहीं होता है।


 Q6. पहले अठारह तत्वों के विभिन्न कक्षों में इलेक्ट्रॉन वितरण के नियम को लिखिए।


उत्तर : किसी कक्षा में कुल इलेक्ट्रॉन की अधिकतम संख्या 2n2' हो सकती है।

प्रथम कक्षा के लिए n = 1, 2n^2

= 2 * (1)^2

= 2 * 1

= 2


द्वितीय कक्षा के लिए n = 2.2n ^ 2

= 2 * (2)^2

= 2 * 4

= 8


तृतीय कक्षा के लिए n = 3, 2n^2

= 2 * (3)^2

= 2 * 9

= 18


चतुर्थ कक्षा के लिए n = 4, 2n^2

= 2 x (4)^2

= 2 x 16

= 32


बाह्य कक्ष में अधिकतम 8 इलेक्ट्रॉन हो सकते है।



 Q7. सिलिकॉन और ऑक्सीजन का उदाहरण लेते हुए संयोजकता की परिभाषा दीजिए।


उत्तर : 

संयोजकता किसी परमाणु के बाह्यतम कोष के इलेक्ट्रॉन के लेन-देन पर निर्भर करती है। इलेक्ट्रॉन के लेन-देन में जितने इलेक्ट्रॉन काम आते है उसे ही संयोजकता कहते है। ऐसा करने से बाहरी कक्षा में इलेक्ट्रॉन पूर्ण हो जाते है। 

उदाहरण 

सिलिकॉन परमाणु संख्या = 14

इलेक्ट्रॉनिक विन्यास = 2, 8, 4

संयोजकता = 4 (चुकि बाहरी कक्षा को पूर्ण करने के लिए 4 इलेक्ट्रॉन की आवश्यकता है।)


ऑक्सीजन परमाणु संख्या = 8

इलेक्ट्रॉनिक विन्यास = 2, 6

संयोजकता | = 2 (बाहरी कोष को पूर्ण करने के लिए 2 इलेक्ट्रॉन की आवश्यकता है।)


 Q8. उदाहरण के साथ व्याख्या कीजिए - परमाणु संख्या, द्रव्यमान संख्या, समस्थानिक और समभारिक समस्थानिकों के कोई दो उपयोग लिखिए |


उत्तर : परमाणु संख्या : किसी तत्व की परमाणु संख्या उसके नाभिक में स्थित प्रोटॉन की संख्या के बराबर होती हैं । इसे Z के द्वारा प्रर्दशित किया जाता है। परमाणु संख्या के नाभिक में उपस्थित प्रोटॉन के समान होती है अब प्रोटॉन सदा इलेक्ट्रॉन के सामान संख्या में होते हैं।

परमाणु संख्या = नाभिक में प्रोटॉन की संख्या = इलेक्ट्रॉनों की संख्या

उदाहरण : सोडियम परमाणु के नाभिक में 11 प्रोटॉन होते हैं। अतः इसकी परमाणु संख्या 11 होगी और इसे इस प्रकार लिखते हैं 11Na

द्रव्यमान संख्या :  किसी तत्व की द्रव्यमान संख्या उसमें उपस्थित प्रोटॉनों और न्यूट्रॉनों की संख्या के योग के बराबर होती है।

द्रव्यमान संख्या = प्रोटॉनों की संख्या +  न्यूट्रॉनों की संख्या

उदाहरण : सोडियम परमाणु में 11 प्रोटॉन और 12 न्यूट्रॉन होते हैं। अतः इसकी द्रव्यमान संख्या 11 + 12 = 23  होगी ।

समस्थानिक :  एक ही तत्व के एक परमाणुओं को जिनके नाभिकों में प्रोटॉन बराबर होते हैं न्यूट्रॉन संख्या में भिन्न भिन्न होते हैं उन्हें समस्थानिक कहते हैं।तत्व के समस्थानिकों के इलेक्ट्रॉनिक विन्यास एक समान होते हैं क्योंकि इनके संयोजकता एक सी होती है।

उदाहरण : हाइड्रोजन के तीन समस्थानिक है -  

प्रोटियम 1H¹ , ड्यूटीरियम 1H² , ट्राइटियम 1H³

समभारिक : जिन तत्वों की परमाणु संख्या भिन्न भिन्न होती है लेकिन द्रव्यमान संख्या समान होती है उन्हें समभारिक कहते हैं ।

उदाहरण :  18Ar40 और 20Ca40  

कैल्शियम की परमाणु संख्या 20 तथा ऑर्गन की परमाणु संख्या 18 है पर इन की द्रव्यमान संख्या 40 है जिस कारण इनमें इलेक्ट्रॉन संख्या भिन्न भिन्न है।

समस्थानिकों के दो उपयोग :  

(1) कैंसर के उपचार में कोबाल्ट (Co 60) के समस्थानिक उपयोग किया जाता है। घेंघा रोग के इलाज में आयोडीन (I131) के समस्थानिक का उपयोग किया जाता है।

(2) यूरेनियम (U235) का उपयोग परमाणु भट्टी के ईंधन के रूप में होता है।



 Q9. Na+ के पूरी तरह से भरे हुए K व L कोश होते हैं- व्याख्या कीजिए।


उत्तर : Na परमाणु में 11 इलेक्ट्रॉन होते हैं, जबकि Na+ आयन में 10 इलेक्ट्रॉन होते हैं । 2 इलेक्ट्रॉन से K कोश पूरा भर जाता है तथा 8 इलेक्ट्रॉन से L कोश पूरी तरह भर जाता है । Na+ का इलेक्ट्रॉनिक विन्यास 2, 8 है । अत: 10 इलेक्ट्रॉन K तथा L कोश पूरी तरह भर देते हैं ।



 Q10. अगर ब्रोमीन परमाणु दो समस्थानिकों [ 7935Br ( 49.7%) तथा 8135Br(50.3%)] के रूप में है, तो ब्रोमीन परमाणु के औसत परमाणु द्रव्यमान की गणना कीजिए ।

उत्तर : ये दोनों [ 7935Br ( 49.7%) तथा 8135Br(50.3%) ] ब्रोमीन के समस्थानिक है |

अत: ब्रोमीन परमाणु का औसत परमाणु द्रव्यमान

= 79 x (49.7 / 100) + 81 x (50.3 / 100)

= (3926.3 / 100) + (4074.3 / 100)

= 39.263 + 40.743

= 80.0064


 Q11. एक तत्व X का परमाणु द्रव्यमान 16.2 u है तो इसके किसी एक नमूनें में समस्थानिक "X और 18 x का प्रतिशत क्या होगा ?


उत्तर : 

दिया गया तत्व X का परमाणु द्रव्यमान = 16.2u है |

माना 168X का प्रतिशत = a

तब 188X का प्रतिशत = (100 - a)

X का औसत द्रव्यमान = 16 ( a / 100 ) + 18 (100 - a / 100)

16.2 = ( 16a / 100 ) + (1800 - 18a / 100)

1620 = 1800 - 2a

1800 - 1620 = 2a

180 = 2a

a = 90 

इसलिए 168X का प्रतिशत = 90%

तथा 188X का प्रतिशत = 100 - 90

= 10%


 Q12. यदि तत्व का Z = 3 हो तो तत्व की संयोजकता क्या होगी ? तत्व का नाम भी लिखिए।


उत्तर : यदि तत्व का Z = 3, तब तत्व के परमाणु में 3 इलेक्ट्रॉन हैं और उसका इलेक्ट्रॉनिक विन्यास 2, 1 है। अतः इसकी संयोजकता 1 होगी तथा यह तत्व लिथियम (Li) होगा।


 Q13. दो परमाणु स्पीशीज़ के केंद्रकों का संघटन नीचे दिया गया है

           Y

प्रोटॉन 6 6

न्यूट्रॉन 6 8

X और Y की द्रव्यमान संख्या ज्ञात कीजिए। इन दोनों स्पीशीज़ में क्या संबंध है?


उत्तर : 

X की द्रव्यमान संख्या = प्रोटॉन की संख्या + न्यूट्रॉन की संख्या 

X की द्रव्यमान संख्या = 6 + 6 

X की द्रव्यमान संख्या = 12 

Y की द्रव्यमान संख्या = प्रोटॉन की संख्या + न्यूट्रॉन की संख्या 

Y की द्रव्यमान संख्या = 6 + 8 

Y की द्रव्यमान संख्या = 14 


 Q14. निम्नलिखित वक्तव्यों में गलत के लिए F और सही के लिए T लिखें। 

(a) जे. जे. टॉमसन ने यह प्रस्तावित किया था कि परमाणु के केंद्रक में केवल न्यूक्लीयॉन्स होते हैं।

(b) एक इलेक्ट्रॉन और प्रोटॉन मिलकर न्यूट्रॉन का निर्माण करते हैं इसलिए यह अनावेशित होता है।

(c) इलेक्ट्रॉन का द्रव्यमान प्रोटॉन से लगभग 1 / 2000 गुणा होता है।

(d) आयोडीन के समस्थानिक का इस्तेमाल टिंक्चर आयोडीन बनाने में होता है |


उत्तर : 

(a.) F (गलत) 

(b.) F (गलत)

(c.) T (सत्य)

(d.) F (गलत) 


प्रश्न संख्या 15, 16 और 17 में सही के सामने ( ) का चिह्न और गलत के सामने (x) का चिह्न लगाइए।

 Q15. रदरफ़ोर्ड का अल्फा कण प्रकीर्णन प्रयोग किसकी खोज के लिए उत्तरदायी था-

(a) परमाणु केंद्रक

(b) इलेक्ट्रॉन

(c) प्रोटॉन

(d) न्यूट्रॉन


उत्तर : (a) परमाणु केंद्रक


 Q16. एक तत्व के समस्थानिक में होते हैं-

(a) समान भौतिक गुण

(b) भिन्न रासायनिक गुण

(c) न्यूट्रॉनों की अलग-अलग संख्या

(d) भिन्न परमाणु संख्या


उत्तर : (c) न्यूट्रॉनों की अलग-अलग संख्या


 Q17. CH- आयन में संयोजकता - इलेक्ट्रॉनों की संख्या है -

(a) 16

(b) 8

(c) 17

(d) 18


उत्तर : (b) 8


 Q18. सोडियम का सही इलेक्ट्रॉनिक विन्यास निम्न में कौन सा है ?

(a) 2, 8

(b) 8,2,1

(c) 2,1,8

(d) 2,8,1


उत्तर : (d) 2,8,1


 Q17. CH- आयन में संयोजकता - इलेक्ट्रॉनों की संख्या है -

(a) 16

(b) 8

(c) 17

(d) 18


उत्तर : (b) 8


 Q18. सोडियम का सही इलेक्ट्रॉनिक विन्यास निम्न में कौन सा है ?

(a) 2, 8

(b) 8,2,1

(c) 2,1,8

(d) 2,8,1


उत्तर : (d) 2,8,1


 Q19. निम्नलिखित सारणी को पूरा कीजिए

परमाणु संख्याद्रव्यमान संख्यान्युट्रोनो की संख्याप्रोटोनो की संख्या इलेक्ट्रोनो की संख्या परमाणु स्पीशीज
9-10- - -
1632---सल्फर
-24-12--
-2-1--
-1010-

उत्तर :

परमाणु संख्याद्रव्यमान संख्यान्युट्रोनो की संख्याप्रोटोनो की संख्या इलेक्ट्रोनो की संख्या परमाणु स्पीशीज
9191099फ़्लोरीन
163216
1616सल्फर
1224121212मैग्नीशियम
121
11ड्यूटीरियम
11011प्रोटियम

Post a Comment

Previous Post Next Post